• Posted by admin on Date Jul 25, 2018
    59 Views No Comments

    आईआईटी मद्रास के स्टूडेंट्स ने बनाया अनोखा रेफ्रिजरेटर, ग्लोबल वार्मिंग होगा कम

    आईआईटी मद्रास के स्टूडेंट्स ने एक अनोखा रेफ्रिजरेटर का निर्माण किया है। ये नेचुरल रेफ्रिजरेंट की तरह काम करता है। इसका उप्रयोग हम कॉलेज मैस, हॉस्पीटल , सुपरमार्केट या फिर डेयरी इंड्रस्ट्री आदि में कर सकते है। इस रेफ्रिजरेटर की खास बात यह है कि इसमें विभिन्न तरह के कुलिंग सिस्टम लगाए गए है। इसकी मदद से हम ग्लोबल वार्मिंग को कम कर सकते है।

    इस रेफ्रिजिरेटर पर चार अगल प्रकार के कुलिंग सिस्टम दिए गए है।जिसमें डीप रेफ्रिरिजेरशन, नॉर्मल रेफ्रिजिरेटर,एयर कंडिशनिंग और हीट रिकवरी। कुलिंग के दौरान जब हीट निकलता है तो उसका उपयोग हम हॉस्पीटल और अन्य जगहों पर कर सकते है।

    इस सिस्टम को डेयरी इंडस्ट्री, होटल, मीट इंडस्ट्री आदि जगहों पर लगा सकते है। सिंथेटिक रेफ्रिजरेंट मानव निर्मित और पर्यावरण के लिए हानिकारक हैं। कार्बन डाईऑक्साइड को हम रेफ्रिजरेंट की तरह इस्तेमाल कर सकते है। इसका उपयोग हम ज्यादातर उन एरिया में कर सकते है जहां का तापमान काफी कम है। लेकिन भारत के अधिकतर जगह में टम्प्रेचर काफी ज्यादा होता है। यह पहली सिस्टम है जो पूरी तरह से सीओ 2 पर काम करने के लिए डिजाइन की गई पहली प्रणाली है।

    आईआईटी मद्रास के शोध छात्र गुरूचथन एएम ने कहा कि सिंथेटिक रेफ्रिजरेंट्स की तुलना में इसे काम करने के लिए चार गुना अधिक दबाव की आवश्यकता होती है। इस प्रणाली के उपयोग से पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा क्योंकि इसमें प्वाइंट वन ग्लोबल वार्मिल पोटेंशियल है जो कि बाकि रेफ्रिजरेटर से काफी कम है।

    इस रेफ्रिजरेटर के उपयोग से आप 20 प्रतिशत तक बिजली को बचा सकते है। आईआईटी मद्रास के प्रोस्ट डॉक्टरल स्कॉलर सीमरप्रीत ने बताया कि ये रेफ्रिजरेटर सीओ 2 पर काम करता है जो सामान्य और औद्योगिक संदर्भ में अपशिष्ट है।

    इसके अलावा अमोनिया को भी नेचुरल रेफ्रिजरेंट है जिसका व्यापर रूप से भारत में उपयोग किया जाता है। लेकिन अमोनिया टॉक्सिक होता है जिसके कारण इसका इस्तेमाल करना सही नहीं है।लेकिन वही सीओ 2 का इस्तेमाल से किसी भी प्रकार का हानि नहीं होता। इस प्रोजेक्ट में आईआईटी मद्रास के पांच स्टूडेंट्स कृष्णा अमसित भुवनेश, दसी कोटी अब्दुल भी इस परियोजना का हिस्सा है

    CBSE NET : बोर्ड ने जारी किया नेट एग्जाम का आंसर की, 27 तक कर सकते है आपत्ति दर्ज

    कोलकाता में जल्द ही राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय खोला जाएगा

    किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहित योजना के लिए करें आवोदन,ये है अंतिम तिथि

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *