• Posted by admin on Date Oct 17, 2018
    33 Views No Comments

    बायोइंफॉर्मेटिक्स में करियर के असीम संभावनाएं

    scope in bioinformatics

    मेडिकल साइंस या लाइफ साइंस ( life science) में रिसर्च की बहुत इंपोर्टेंट है क्योंकि साइंटिस्ट्स डीएनए और लाइफ सेल्स पर रिसर्च करके ही क्रॉनिक व हेरिडिट्री डिजीजेज के लिए मेडिकल ट्रीटमेंट ढूंढने की कोशिश करते है। हालांकि अब इंफॉर्मेंशन टेक्नोलॉजी के इंटोडक्शन के बाद मॉलिक्युलर बायोलॉजी (Molecular biology ) पर रिसर्च पहले से कहीं ज्यादा ब्रॉड और वास्ट हो गई है। अगर आफ साइंस स्टूडेंट्स हैं तो इस फील्ड में अपना करियर प्लान कर सकते है।

    क्या है बायोइंफॉर्मेटिक्स (bioinformatics)

    इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की हेल्प से मॉलिक्युलर बायोलॉजी में बायोलॉजिकल डाटा को मैनेज और एनालाइज किया जाता है। बॉयोलॉजी की इसी ब्रांच को बायोइंफॉर्मेटिक्स  या कंप्यूटेशनल बायोलॉजी कहा जाता है।इसमें बायोलॉजिकल डाटा को इकट्ठा करने, स्टोर करने, मर्ज करने और एनालाइज करने के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें जीन्स और डीएनए की स्टडी की जाती है।

    इस फील्ड में करियर बनाने के लिए आप बायोइंफॉर्मेंटिक्स में बीटेक या बीएससी कर सकते है। इसके लिए इंटर में साइंस स्ट्रीम होना जरूरी है। इसके साथ ही बायोइंफॉर्मेटिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन करने के लिए बीई, बीटेक, बी.फार्मा, बीएचएमएस, बीवीएससी जैसी डिग्री होना जरूरी है। आप चाहे तो बायोइंफॉर्मेटिक्स में एडवांस्ड डिप्लोमा भी कर सकते है।

    बायोइंफॉर्मेटिक्स का इस्तेमाल अगल-अलग फील्ड्स में बेहतर इम्पैक्ट के लिए किया जाता है, जैसे –ह्यूमन हेल्थ, एग्रीकल्चर, एनवायरनमेंट, एनर्जी, बायोटेक्नोलॉजी और बायोमेडिकल रिसर्च। अब इसका इस्तेमाल मॉलिक्युलर मेडिसिन के लिए भी किया जा रहा है ताकि डिजीजेज को क्योर करने के लिए बेहतर औक कस्टमाइज्ड मेडिसिन्स तैयार की जा सकें। इसमें साइंटिस्ट्स या रिसर्चर्स अलग-अलग स्पेशीज के जेनेटिक डाटा को कंपेयप करते है। इसकी बाद उसकी एनालिसिस की जाती है।

    करियर की संभावना

    आप फार्मास्यूटिकल और बायोटेक कंपनीज में सीक्वेंस एसेंबली, डाटाबेस डिजाइन एंड मेंटेनेंस, सीक्वेंस एनालिसिस, प्रोटिओमिक्स, फार्माकोजिनॉमिक्स, फार्माकोलॉजी, क्लीनिकल फार्मालॉजिस्ट, इन्फॉर्मेटिक्स डेवेलपर, कंप्यूटेशनल केमिस्ट, बायो एनालिटिक्स और एनालिटिक्स के तौर पर काम कर सकते है। प्राइवेट सेक्टर में आप सत्यम, रिलायंस, विप्रो, सिलिकॉन जेनेटिक्स जैसे कंपनीज में काम कर सकते है।

    ये भी पढ़ें

    WII : वन्यजीव विज्ञान पर चलाता है खास कोर्स

    एथिकल हैकिंग में बनाए करियर

    दिल्ली कॉलेज ऑफ आर्ट में फाइन आर्ट और करियर का कोलाज

     

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *