• Posted by admin on Date Oct 16, 2018
    39 Views No Comments

    WII : वन्यजीव विज्ञान पर चलाता है खास कोर्स

    wildlife-institute-of india

    नई दिल्ली

    वन्य जीवों की दुनिया बिलकुल अलग होती है, लेकिन हर किसी के लिए आकर्षक होती है। इस दुनिया के बारे में वैज्ञानिकों में विशेष उत्सुकता बनी रही है और इस कारण शोध भी लगातार होते रहे है। वन औऱ वन्य जीवों के बारे में लगातार शोध की जरूरत को महसूस करते हुए भारत सरकार ने कुछ खास इंस्टीट्यूट की स्थापना की, जिनमें प्रमुखता से शमिल है  वाइल़्ड लाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (wild life institute of India) ।

    भारत सरकार के पर्यावरण , वन औऱ जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा 1986 में देहरादून में एक स्वायत्त संस्था की स्थापना की ग औऱ नाम दिया गया वाइल्ड लाइप इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया यानी भारतीय वन्यजीव संस्थान।  वन्यजीवों के संरक्षण और शोध के उद्देश्य से स्थापित इस इंस्टीट्यूट में शिक्षा और शोध के काम होते है। इंस्टीट्यूट के 180 एकड़ के क्षेत्र में से 100 एकड़ को जंगली क्षेत्र रखा गया है और 80 एकड़ में इंस्टीट्यूट को विकसित किया गया है।

    अब तक  संस्थान द्वारा 200 से अधिक रिसर्च प्रोजेक्ट पूरे किए जा चुकें हैं और सैकड़ों स्टूडेंट्स एमएससी कर चुके हैं। इंस्टीट्यूट की लोकप्रियता का आलम यह हा कि इसे डब्लूआईआई के नेाम से जाना जाता है।

    कोर्स व सीटें

    संस्थान द्वारा यूं तो अनेक कोर्स का संचालन किया जाता है, लेकिन स्टूडेंट्स के लिए संस्थान दो वर्षीय पोस्ट ग्रेजुएट स्तर का एक ही कोर्स संचालित करता है। ऐसे स्टूडेंट्स यहां से वाइल्ड लाइफ साइंस में दो वर्षीय एमएससी कोर्स कर सकते है। संस्थान के इस कोर्स में सीटों की कुल संख्या 20 है जिनमें से 15 भारतीय स्टूडेंट्स के लिए और 5 विदेशी स्टूडेंट्स के लिए रखी गई है।

    क्या है खास

    • 80 एकड़ में अकाडमिक करियर
    • शोध की सभी जरूरी सुविधाएं
    • सुसज्जित क्लास
    • वातानुकूलित क्लास
    • डिजिटल लैब
    • दो हॉस्टल औऱ दो पर काम जारी है
    • होस्टल में कॉमन टेलिविजन रूम, टेबल टेनिस, कैरम बोर्ड आदि की सुविधा
    • लाइब्रेरी में 5.958 से ज्यादा किताब
    • 20,600 से ज्यादा अखबार की क्लिपिंग

    स्कॉलरशिप

    संस्थान में प्रवेश पाने वाले स्टूडेंट्स के लिए स्कॉलरशिप की व्यवस्था है। संस्थान द्वारा 8 स्टूडेंट्स को फूल स्कॉलरशिप दी जाती है।

     

    ये भी पढ़ें

    IIDAA : कला के क्षेत्र में बेहतर प्रशिक्षण का केंद्र

    नव नालन्दा महाविहार: छात्रों को खास पहचान देता है एनएनएम

    ट्रिपल आईटी के स्टूडेंट्स पढ़ेंगे गांधीवाद व अध्यात्म का पाठ

     

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *