• Posted by admin on Date Oct 5, 2018
    552 Views No Comments

    दिल्ली कॉलेज ऑफ आर्ट में फाइन आर्ट और करियर का कोलाज

    delhi college of fine art admission

    ज्यादात्तर सिलेब्रेटीज का मानना है कि आज वे इस उंचाई पर इसलिए हैं क्योंकि उन्होंने वो किया जो वे करना चाहते थे यानी उन्होंने अपने शौक को ही करियर में ढाल लिया। इसीलिए आज अनेक युवा अपने शौक को ही प्रोफेशन के रुप में चुन रहे है। ऐसा ही एक शौक है फाइन आर्ट और इसी से जुड़ा संस्थान है  दिल्ली कोलाज ऑफ आर्ट (delhi college of art )

    कैसे हुई शुरूआत

    17 अगस्त 1996 को दिल्ली के उत्तम नगर इलाके के एक छोटे से स्टूडियों में आशु रंगशाला नाम से एक संस्थान को शुरूआत हुई थी। 2000 तक वह ऐसे ही  चला, पर फिर उसे पेशेवर रुप देने के लिए एक साल के लिए बंद कर दिया गया। 2001 में नए ढांचे, आधुनिक सुविधाओं और सुपर प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों के साथ वो फिर शुरू हुआ और उसे नाम मिला दिल्ली कोलाज ऑफ आर्ट। अब वहां प्रोफेशनल रुप से पढ़ाई का सिलसिला जारी हो गया और उसका ख्याति फैलन लगी।

    अन्य गतिविधि पढ़ाई के साथ साथ आर्ट गैलरीज दिखाने, छात्रों की कला प्रदर्शनी आयोजित करने और एजुकेशनल टूर की सिलसिला शुरू हो गया। जब स्टूडेंट्स की संख्या बहुत बढ़ गई औऱ उसके तीन बैच निकल गए तो उसे औऱ व्यापक रुप देने के लिए 2005 में राजौरी गार्डन में ले जाया गया। मौजूदा कैंपस वही है।

    शाखाएं

    पिछले साल से यहां छात्रों के लिए विदेश दौरे का आयोजन भी शुरू हो  गया। इसका वार्षिकोत्सव कला प्रेमियों के बीच खासा लोकप्रिय है। इस दीक्षांत समारोह में कला की अलग- अलग विधाओं की ऐसी करीबन 10 जानी मानी हस्तियों को सम्मानित किया जाता है। जिन्होंने अपने हुनर को दूसरों में बांटा है। इसके अलावा यहां विशेष सेमिनार, विशेष कार्यशालाओं और कला प्रतियोगिताएं का भी आयोजन किया जाता है।  इस समय दिल्ली एनसीआऱ और देहरादून में संस्थान की 8 शाखाएं हैं।

    कोर्स

    यहां पेंटिंग , एप्लाइड आर्ट और स्कल्पचर के 4-4 साल के डिग्री कोर्स बीएफए के लिए अभ्यार्थी का किसी भी संकाय से 12वीं पास होना जरूरी है। इन्हीं में 2-2 साल के एमएफए और एमए इन ड्राइंग एंड पेंटिंग के डिग्री पाठ्यक्रमों के लिए किसी भी संकाय में स्नातक होना चाहिए। इसके अलावा डिप्लोमा कोर्स भी उपलब्ध है।

    पेंटिंग , एप्लाईड आर्ट विद ग्राफिक डिजाइनिंग और स्कल्प्चर के 4-4 साल के डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के लिए अभ्यार्थी का 12वीं पास होना जरूरी है। समय की जरूरत के मद्देनजर इसी साल से यहां 3डी एनिमेशन औऱ उद्योग पर केंद्रित ग्राफिक डिजाइनिंग के पाठ्यक्रमों की भी शुरूआत हुई है।

    इस संस्थान की विशिष्टता यह है कि यहां पढ़ाने के लिए आधुनिकतम तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। संस्थान की सभी शाखाओं में पढ़ाई का एक सा स्तर रहे, इसके लिए साल भर विस्तृत वीडियो ट्यूटोरियल्स का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा संस्थान की लाइब्रेरी में इतिहास और कला संबंधी सैकड़ों किताबें हैं। साथ ही काफी संख्या में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर की ऑडियों-विजुअल सामग्री भी है।

    प्लेसमेंट

    संस्थान का प्लेसमेंट सेल कैंपल प्लेसमेंट के लिए छात्र-छात्राओं को भरपूर सहयोग देता है। इसके लिए उन्हें पहले से ही इंटर्नशिप और विशेष ट्रेनिंग कार्यक्रमों में शामिल किया जाता है।

    वेबसाइट–  http://www.delhicollageofart.com/

    ये भी पढ़ें

    BDS: देश के टॉप डेंटल कॉलेज की लिस्ट, यहां देखें

    COMMERCE COLLEGE: देश के टॉप 50 कॉमर्स कॉलेज की लिस्ट, आप भी देखें

    क्या आप जानते हैं रविवार के दिन ही छुट्टी क्यों   

     

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *