• Posted by admin on Date Sep 4, 2018
    91 Views No Comments

    NUEPA : शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर करियर की राह

    nuepa

    शिक्षा के क्षेत्र में करियर की असीम संभावनाएं है। इन संभावनाओं का बेहतर लाभ उठाने के लिए जरूरी है कि इस क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल की जाए। एमफिल और पीएचडी जैसी डिग्री ऐसी स्थिति में खूब काम आती है, जिसके लिए खास संस्थान है एनयूईपीए।

    हर किसी को बेहतर शिक्षा मिल पाए ताकि वे उसका अच्छी तरह इस्तेमाल कर बेहतर और जिम्मेदार नागरिक बन सके, यह सरकार की एक बड़ी चिंता रही है। इसी चिंता को ध्यान में रखते हुए सरकार ने शिक्षा के लिए विशेष योजना और प्रशासन की जरूरत महसूस की जिसके तहत राजधानी दिल्ली में इंस्टीट्यूट की स्थापना की गई।

    1962 में इसकी स्थापना यूनेस्को एशियन सेंटर फॉर एजुकेशनल प्लानर्स, एडमिनिस्ट्रेटर्स एंड सुपरवाइजर्स के नाम से की गई। 1965 में इसका नाम एशियन इंस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशनल प्लानिंग एंड एडमिनिस्ट्रेशन कर दिया गया।

    1973 में एक बार फिर इसका नाम बदला गया और लोग इसे नेशनल स्टाफ कॉलेज फॉर एजुकेशनल प्लानर्स एंड एडमिनिस्ट्रेटर्स के नाम से जानने लगे। जरूरत और कार्य़ के अनुसार इसके नाम में एक बार फइर बदलाव किया गया। 1979 में। इस बार इसका नाम रखा गया नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशनल प्लानिंग एंड एडमिनिस्ट्रेशन, जिसे लोग एनआईईपीए के नाम से भी जानते है।

    वर्ष 2006 में इसे यूनिवर्सिटी का दर्जा दिया गया और इसका नाम रखा गया नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ एजुकेशनल प्लानिंग एंड एडमिनिस्ट्रेशन यानी राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन विश्वविद्यालय। अब लोग इसे संक्षिप्त में एनयूईपीए के नाम से जानते हैं।

    कोर्स व सीटें
    यहां अनेक कोर्स हैं लेकिन सबसे सब शिक्षा क्षेत्र से जुड़े हुए है। सरकारी शिक्षण संस्थानों से जुड़े लोगों की क्षमता में और निखार लाने के लिए छोटे-छोटे तो अनेक कोर्स चलाए जाते हैं। लेकिन यहां दो कोर्स हर किसी के लिए उपलब्ध हैं। एक कोर्स है दो वर्षीय एमफिल का, जिसमें सीटों की संख्या 10 हैं। दूसरा कोर्स है शिक्षा मे पीएचडी का और चार वर्षीय इस कोर्स में भी सीटों की संख्या 10 रखई गई है।

    इंस्टीट्यूट में है खास
    यूनिवर्सिटी के कैंपस में बेहतर शिक्षा के लिए तमाम जरूरी सुविधाएं है। कैंपस में लाइब्रेरी एंड डॉक्यूमेंटरी सेंटर है जो लगभग 750 वर्ग र्मीटर में निर्मित तीन मंजिली इमारत में स्थित है। यहां 53 हजार पांच सौ से अधिक पुस्तकें डॉक्यूमेंट्स आदि स्थित हैं। यहां जर्नल्स के चार हजार से अधिक वॉल्यूम स्थित हैं। 380 से अधिक ऑडियो विजुअल सामग्री है। कैंपस की आईटी से संबंधित जरूरत को ध्यान में रखते हुए यहां सुविधाओं से युक्त एक कंप्यूटर सेंटर की भी स्थापना की गई है। इस सेंटर की सहायता से सभी छात्रों और स्टाफ को कंप्यूटर और इंटरनेट की बेहतर सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। कैंपस में सात मंजिला इमारत में हॉस्टल स्थित है। जहां एसी और नॉन एसी दोनों ही तरह के कमरे उपलब्ध है।

    स्कॉलरशिप और अवार्ड
    संस्थान के स्टूडेंट्स के लिए कई स्कॉलरशिप की व्यवस्था है। सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा अनेक श्रेणी के अभ्यार्थी को स्कॉलरशिप प्रदान की जाती है। वहीं यूजीसी स्कॉलरशिप और कुछ मेरिट स्कॉलरशिप के लिए छात्र आवेदन कर सकते है।

    प्लेसमेंट
    यूनिवर्सिटी के स्तर को देखते हुए स्टूडेंट्स यहां आते है और अपनी बेहतर भविष्य का रास्ता खोलते है। यहां कम छात्रों को ही प्रवेश मिलता है। जिससे शिक्षा के क्षेत्र में ऐसे लोगों की मांग बढ़ सकें।

    ये भी पढ़ें

    IIT JAM 2019: रजिस्ट्रेशन शुरू, ये है अंतिम तिथि

    केंद्र ने SC/ST अभ्यार्थी के लिए PhD व MPhil की कटऑफ कम की

    योगिक साइंस : योग दिलाए काम भी, आराम भी

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

Tags: