• Posted by admin on Date Nov 10, 2018
    87 Views No Comments

    NEET UG 2019 : समय के हिसाब से बांट लें सिलेबस

    neet ug 2019

    देश में युवाओं की एक बड़ी आबादी डॉक्टर बनने का सपना देखती है। और यह सपना तब ही पूरा हो सकता है जब वह इसकी प्रमुख एंट्रेस एग्जाम को सफलतापूर्वक हासिल कर लें। नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट ऐसी ही एक एग्जाम है। इस एग्जाम को पास करे अभ्यार्थी मेडिकल और डेंटल के क्षेत्र में प्रवेश पाते है। अभी तक सीबीएसई बोर्ड की ओर से मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन किया जाता था। लेकिन इस साल से नीट एग्जाम नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा किया जा रहा है।

    एक पेपर में चार सेक्शन

    नीट एक पेपर पेसिल बेस्ड टैस्ट है। इसमें स्टूडेंट्स को एनटीए द्वारा बॉन पेन उपलब्ध कराया जाएगा। एग्जाम में अभ्यार्थियों से 180 सवाल पूछे जाएंगे। इसके लिए तीन घंटे का समय निर्धारित किया गया है।  एग्जाम में फिजिक्स , कैमिस्ट्री और बायोलॉजी से सवाल पूछे जाएंगे।

    जिसमें फिजिक्स से 45 सवाल, कैमिस्ट्री से 45 सवाल और बायोलॉजी(बॉटनी- 45 सवाल व जूलॉजी 45 सवाल) से 90 सवाल होंगे। प्रश्नों के स्वरूप बहुविकल्पीय होता है। हिंदी- इंग्लिश के अलावा अन्य क्षेत्रीय भाषाएं भी हैं। हर प्रश्न के लिए चार अंक निर्धारित हैं। एनईईटी में पूछे जाने वाले प्रश्नों का पैटर्न 11वीं और 12वीं के सिलेबस पर टिका होता है।

     एनसीईआरटी की किताबें

    नीट में जो भी सवाल पूछे जाते है , वे एनसीईआरटी की किताबों पर आधारित होते हैं, इसलिए एनसीईआरटी की किताबों के सभी टॉपिक्स को सही से तैयारी करें। इसके अलावा अगर स्टूडेंट्स अन्य रिफरेंस बुक का इस्तेमाल करते है तो एक बार अपने शिक्षक या फिर एक्सपर्ट से जरूर पूछे लें।

     फिजिक्स पर ध्यान दें

     मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम में स्टूडेंट्स को सबसे ज्यादा परेशानी फिजिक्स में होती है। न्यूमेरिकल्स, फिजिक्स फॉर्मूलों व डायग्राम में आती है। केमिस्ट्री की बात करे तो यह कुछ हद तक स्कोरिंग विषय है। ऑर्गेनिंक केमिस्ट्री  स्कोरिंग विषय है इसकी तैयारी अच्छे से करने पर आप मेक्सिम मार्क्स उठा सकते है।

    स्टूडेंट्स डायग्रा का अभ्यास करते समय ध्यान रखे कि कभी-कभी पूरा प्रश्न ही उन पर आधारित होता है। फिजिक्स के फॉर्मूला अच्छे तरीके से याद होना चाहिए। फॉर्मूले पर टिकी केमिस्ट्री के प्रश्न फॉर्मूला बेस्ड होता हैं । इसमें अच्छी स्कोरिंग के जरिए अच्छा रैंक हासिल किया जा सकता है।

     बायोलॉजी पर रखे ध्यान

    इसमें जूलॉजी व बॉटनी से संबंधित प्रश्नो की संख्या लगभग एक समान होती है। पूछे जाने वाले महत्वपूर्ण बिंदुओं में इकोलॉजी, एप्लीकेशन ऑफ बायोलॉजी, इम्युनिटी सिस्टम एनिमल किंगडम , एनिमल एवं प्लांट फिजियोलॉजी, फोटोसिंथेसिस आदि शामिल है।

     ये भी पढ़ें

    Career in Law : लॉ के क्षेत्र में ये हैं स्पेशलाइजेशन कोर्स

    SPA Management: इस फील्ड में एक्सपर्ट की है भारी डिमांड

    Top universities in Australia: ये हैं ऑस्ट्रेलिया के टॉप यूनिवर्सिटी

    Higher education in New Zealand: क्वालिटी एजुकेशन से नो कम्प्रोमाइज

    इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स के लिए है इन क्षेत्रों में अपार संभावनाएं

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *