• Posted by admin on Date Oct 1, 2018
    54 Views No Comments

    नव नालन्दा महाविहार: छात्रों को खास पहचान देता है एनएनएम

    nav nalanda mahavihar

    पटना

    देश के आजादी के बाद बिहार सरकार ने 1951  में पाली  शिक्षा के केंद्र के रुप में एक इंस्टीट्यूट की स्थापना की और उसका नाम रखा नव नालंदा महाविहार। नालंदा के शिक्षाविद् भिक्षु जगदीश कश्यप को इसके प्रभारी की जिम्मेदारी सौंपी गई। बिहार में राजधानी पटना से लगभह 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित इस संस्थान को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने साल 2006 में डीम्ड विश्वविद्यालय का दर्जा प्रदान किया।

    कोर्स व सीटे

    इस यूनिवर्सिटी में सर्टिफिकेट कोर्स से लेकर पीएचडी तक पढ़ाई की व्यवस्था है। सर्टिफिकेट स्तर पर यहांम पाली चाईनीज औऱ तिब्बबतन भाषा में सर्टिफिकेट करने की व्यवस्था है। इन तीनों भाषाओं में डिप्लोंमा करने की भी यहां व्यवस्था है। इन सभी सर्टिफिकेट औऱ डिप्लोमा कोर्स में सीटों की संख्या 40-40 है। पाली , फिलॉसफी, एनशियंट हिस्ट्रीस कल्चर एंड आर्कियोलॉजी , बुद्धीस्ट स्टडीज, संस्कृत , हिंदी, इंग्लिश और तिब्बतन स्टडीज में एमए करने की व्यवस्था है। बीए और एमए स्तर के सभी कोर्स में 40-40 सीटों पर प्रवेश देने का प्रावधान है। इसके अलावा यहां से पाली, फिलॉस्पी, एनशियंचॉट हिस्ट्री कल्चर एंड आर्कियोलॉजी, बुद्धीस्ट स्टडीज, संस्कृत , हिंदी, इंग्लिश , तिब्बतन स्टडीज , चाइनीज औऱ जापानी भाषा में रिसर्च की भी व्यवस्था है।

    इंस्टीट्यूट में है खास

    विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी में काफी  दुलर्भ पांडुलिपयों का संग्रह है। इस प्राचीन संस्थान ने इस बात को महसूस किया कि कंप्यूटर और इंटरनेट ने पुरी दुनिया को एक गांव सा बना दिया है।  अब कंप्यूटर हर किसी के लिए जरूरी है। इस बात को समझते हुए संस्थान में कंप्यूटर लैब की स्थापना की गई है। इस लैब में एक बार 25 स्टूडेंट्स के बैठने की व्यवस्था है। सम्पूर्ण व्यक्तित्व और शारीरिक विकास के लिए खेलों की भूमिका काफी महत्वपूर्ण होती है। एनएनएम ने इस बात को महसूस किया जिस कराण कैंपस में अनके इनडोर-आउटडोर खेलों के साथ साथ वॉटर स्पोट्स की भी व्यवस्था है। कैंपस में जरूरत मंद स्टूडेंट्स के लिए तीन हॉस्टल्स हैं  जिनमें सीटों की कुल संख्या 198 है। संस्थान में वर्तमान जरूरत के अनुसार मल्टी मीडिया प्रोजेक्शन स्क्रीन वाला एक-एक कॉन्फ्रेंस रूम भी है।

    स्कॉलरशिप

    संस्थान के स्टूडेंट्स के लिए अनेक मेरिट स्कॉलरशिप की व्यवस्था है। ये स्कॉलरशिप सभी विषयों के स्टूडेंट्स के लिए हैं। इनके अलावा विभिन्न श्रेणियों के स्टूडेंट्स के लिए भी कई तरह के स्कॉलरशिप है।

    ये भी पढ़ें

    एनआईएन : न्यूट्रिशन में बेहतरीन करियर

    वॉयस ओवर आर्टिस्ट में बनाए करियर, जाने जरूरी योग्यता

    Homeopathy : करियर को दे एक नई उड़ान

    नेचुरोपैथी : करियर की संजीवनी, कर सकते हैं ये कोर्स

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *