• Posted by admin on Date Oct 3, 2018
    39 Views No Comments

    राजस्थान की पहली ट्रांसजेंडर इंजीनियर बनीं मालिनी दास

    malini_das_first transgender engineer

    ट्रांसजेंडर एक ऐसा समुदाय है जिसे हम कई सालों से नजरअंदाज करते आए है। लेकिन समय के साथ ये समुदाय अपना एक अलग इतिहास रच रहा है। आज के समय में ट्रांसजेंडर्स लोगों के लिए मिसाल बनते जा रहा है। आज हम आपको ऐसी ही एक ट्रांसजेंडर के बारे में बताने जा रहे है जो आज एक मिशाल है। राजस्थान की 22 साल की ट्रांसजेंडर मालिनी दास राजस्थान की पहली ट्रांसजेंडर इंजीनियर बन गई है। उन्होंने जयपुर के एक प्राइवेट विश्वविद्यालय से कंप्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है। आपको बता दें कि मालिनी मूलत बंगाल के बेरहपुर की रहने वाली है। अभी वह जयपुर में एक बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग (बीपीओ) में काम कर रही हैं.

    पढ़ाई के लिए गंभीर

    मालिनी ने बताया मेरे लिए ये आसान नहीं था और मैं जानती थी कि शिक्षा ही जिससे समाज में बदलाव लाया जा सकता है. उन्होंने बताया मैं पढ़ाई के प्रति वह काफी गंभीर थी और मन लगाकर पढ़ाई करती थी. स्कूली पढ़ाई बेरहमपुर में केंद्रीय विद्यालय से हुआ.

    12वीं के बाद साल 2014 में JEE की परीक्षा दी. जिसके बाद मुझे इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाई करने का मौका मिला. उन्होंने बताया मुझे बचपन से ही मेरे परिवार और दोस्तों को पूरा सपोर्ट मिला जिसकी वजह से मुझे कभी ये महसूस नहीं हुआ कि एक ट्रांसजेंडर बाकी लोगों से अलग होते हैं. मेरे परिवार ने कभी ये महसूस होने ही नहीं दिया.

    ये भी पढ़ें

    कॉमर्स के कुछ ऑफबीट कोर्सेज

    लाल बहादुर शास्त्री सच्चे अर्थों में थे गांधीवादी

    क्या है SC-ST Act? जाने सुप्रीम कोर्ट ने एक्ट में क्या किया था बदलाव

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *