• Posted by admin on Date Aug 23, 2018
    101 Views No Comments

    Neet Exam Tips : ऐसे पूरा करें डॉक्टर बनने का सपना,देखे महत्वपूर्ण टिप्स

    how to prepare for neet exam

    अगर आप अपने करियर को लेकर वाकर्ई गंभीर है तो कम से कम दो वर्ष पहले से मेडिकल एंट्रेंस की तैयारी में जी जान से जुट जाना चाहिए। कहने का मतलब है कि दसवीं के बाद से ही इसकी तैयारी कर प्लान तैयार कर पढ़ने  का टाइम टेबल बनाकर सख्ती से उसका पालन करना शुरू कर देना चाहिए। सबसे पहले मेडिकल का सिलेबस (नीट सिलेबस ) अच्छी तरह से समझना आवश्यक है। इसके अलावा Neet एग्जाम के पैटर्न के बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए।

    तैयारी पर खास फोकस

    सबसे पहले तो क्लास 9वीं से लेकर 12वीं तक की एनसीईआरटी की टेक्स्ट बुक्स को अच्छी तरह से पढ़ें।इससे सब्जेक्ट के बेसिक्स को समझने में मदद मिलेगी। इनमें दिए गए उदाहरणों को ध्यान से समझें और चैप्टर के अंत में दिए गए प्रश्नों को स्वयं हल करने की कोशिश करें।

    डायग्राम से समझे बायोलॉजी के कॉन्सेप्ट को

    बायोलॉजी को समझने का सबसे आसान तरीका है डायग्राम। इससे कॉन्सेप्ट्स को समझने में काफी आसानी होगी। दिनभर की पढ़ाई को रात में सोने से पहले एख बार अवश्य देख लें। इससे भूलने का खतरा काफी हद तक कम हो जाएगा। इसी प्रकार सप्ताह भर की पढ़ाई की साप्ताहांत में अवश्य पुनरावृत्ति की आदत डाल ले।

    कठिन टॉपिक की गुत्थी कैसे सुलझाएं

    बारहवीं की शुरूआत से पहले यकीन मानिए आप इस थोड़ी-थोड़ी तैयारी से भी एंट्रेंस एग्जाम का अच्छा खासा हिस्सा पूरा कर चुके होंगे। यह भी सच है कि विभिन्न टॉपिक्स की पढ़ाई के दौरान जरूरी नहीं है कि अपको सब कुछ शत-प्रतिशत समझ में आ जाएगा। इसलिए अब सूची बना लें। ऐसे टॉपिक्स की जिनमें वाकई आपको कठिनाई हो रही हो। इन्हें समझने के लिए आप आर्ट टीचर्स, सहपाठियों और सीनियर्स आदि से बेझिझक मदद ले सकते है।

    इंटरनेट की मदद लें

    विज्ञान के कॉन्सेप्ट्स को एनिमेशन और मल्टीमीडिया के माध्यम से समझने में कई वेबसाइट्स मददगार साबित हो सकती है। खासतौर पर विषय की बारिकियों और उनके बीच के आपसी संबंध को समझने में इनकी उपयोगिता काफी प्रभावी कहीं जा सकती है। विदेशी एक्सपर्ट्स द्वारा ऐसी सामग्रियां अमूमन निशुल्क उपयोग के लिए वेबसाइट पर डाली जाती है। इसका लाभ उठाया जा सकता है।

    एंट्रेंस एग्जाम की मुख्य तैयारी

    अब आपका लक्ष्य होना चाहिए एंट्रेंस एग्जाम यानी प्रवेश परीक्षा के शेष बचे सिलेबस को पूरा करना और सैंपल पेपर्स या मॉक टेस्ट का अभ्यास करना चाहिए। बारहवीं बोर्ड में 60 प्रतिशत मार्क्स लाने वाले ही नीट एग्जाम को दे सकते है। स्कूल सिलेबस और एग्जाम सिलेबस दोनों लगभग एक जैसे ही होते है इसलिए आपका प्यास यही होना चाहिए कि टॉपिक्स के समस्त पहलुओं पर ध्यान देना चाहिए।

    भारत के टॉप 100 सरकारी और प्राइवेट मेडिकल कॉलेज , देखे लिस्ट

    COMMERCE COLLEGE: देश के टॉप 50 कॉमर्स कॉलेज की लिस्ट, आप भी देखें

    केंद्र सरकार ने बदला फैसला अब साल में एक बार ही होगा NEET

    NTA ने घोषित किया UGC-NET, JEE-main, NEET-UG, GPAT और CMAT का शेड्यूल

    गोवा सरकार की परीक्षा के लिए 8,000 उम्मीदवारों ने दिया एग्जाम, सभी फेल

  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *